इतिहास एवं पृष्ठ भूमि

उत्तर प्रदेश के पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों में फल उत्पादन, फल उपयोग, बागवानी तथा आलू एवं शाकभाजी कार्यक्रम को और तेजी के साथ चलाने के लिए माननीय राज्यपाल महोदय के आदेशानुसार निदेशक, फल उपयोग, उत्तर प्रदेश अपने कार्य के साथ-साथ प्रदेश के समस्त पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों में उद्यानों और आलू संबंधी कार्य के लिए भी उत्तरदायी होंगे। इन कार्यों के अनुरूप उनका पदनाम निदेशक उद्यान एवं फल उपयोग, उत्तर प्रदेश (डायरेक्टर ऑफ हार्टीकल्चर एण्ड फ्रूट यूटिलाइजेशन, यू.पी) किया जायेगा । जिनका मुख्यालय पूर्ववत् रानीखेत में ही रहेगा।

इसके अतिरिक्त शाक-भाजी एवं आलू के कार्य से संबंधित अभी तक प्रदत्त कृषि निदेशक के सभी वित्तीय एवं प्रशासनिक अधिकार, निदेशक, उद्यान एवं फल उपयोग, उ.प्र को प्रतिनिहित किये जाते हैं। निदेशक, फल उपयोग, उद्यान, आलू एवं फल संरक्षण से संबंधित प्रदेश की सभी योजनाओं के संचालन के लिए भी उत्तरदायी रहेंगे और उपरोक्त कार्य से संबंधित समस्त अधिकारों से संबंधित समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारी भी उनके नियंत्रण में कार्य करेंगे।