ढाबा / फास्ट फूड / रेस्टोरेन्ट प्रशिक्षण के माध्यम से रोजगार सृजन की योजना

योजना का नाम :- ढाबा/फास्ट फूड/रेस्टोरेन्ट प्रशिक्ष्ज्ञण के माध्यम से राजगर सृजन की योजना।

योजना का उद्देश्य -

वर्तमान समय में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रसें में खान - पान व्यवस्था से सम्बन्धित ढाबा/फास्ट फूड/रेस्टोरेंट की मांग दिनो दिन बढ़ती जा रही है। जन सामान्य की मांग को दृष्टिगत रखते हुए लोगों को साफ-सुथरा, पौष्टिक अल्पाहार, भोजन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ढाबा/फास्ट फूड/रेस्टोरेंट प्रशिक्षण आयोजित किये जो रहे है, ताकि बेरोजगार नवयुक थोड़ा पूंजी निवेश कर ढाबा/फास्ट फूड/रेस्टोरेंट की स्थापना पर अपनी जीविका चला सकें। साथ ही जन सामान्य को पौष्टिकायुक्त पदार्थ सुलभ हो सकें।

योजना का कार्यान्वयन -

योजनान्तर्गत प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन जनपदों में स्थिति राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण एवं प्रशिक्षण केन्द्रों के द्वारा किया जायेगा। प्रवेश में अल्प, संख्यकों का मात्राकरण निदेशालय द्वारा जारी निर्देशों के क्रम में सुनिश्चित किया जायेगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम 14 दिन का होगा जिसमें अखिल भारतीय व्यंजनों, सहित अन्य प्रचलित व्यंजनों को पकाने की विधियों का विशेषद शैफ की सेवाएं लेकर भी पढ़ाने एवं सिखाने का कार्य किया जायेगा।

प्रति प्रशिक्षण मदवार का विवरण निम्नवत है -

क्र0 सं0 मद धनराशि (रू0 में)
1 मानेदय 3000
2 कार्यालय व्यय 4000
3 लेखन सामग्री एवं फार्मों की छपाइ 13000
4 कार्यालय फर्नीचर एवं उपकरण 3000
5 गाड़ियों का अनुरक्षण और पेट्रोल आदि की खरीद 4000
6 प्रकाशन 8000
7 अन्य व्यय 8000
8 सामग्री एवं सम्पूर्ति 7000

योग

50000

प्रति कार्यक्रम निर्धारित धनराशि रू0 50,000/-

मानदेय - ढाबा / फास्ट फूड / रेस्टोरेन्ट प्रशिक्षण के माध्यम से रोजगार सृजन की योजना में 14 दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया जायेगा जिसमें 06 दिवस का व्याख्यान अतिथि व्याख्याताओं से मानदेय के आधार पर दिलाया जायेगा। अतिथि व्याख्याता के रूप में विश्वविद्यालयों / तकनीकी शिक्षण संस्थानों / रेस्टोरेन्ट एवं होटल उद्योग / ऋण प्रदाता बैंकों / होटल मैनेजमेंट की संस्थाओं / प्रबंध संस्थानों / पर्यटन विभाग एवं खाद्य सुरक्षा विभाग आदि से जुड़े विशेषज्ञों को आमंत्रित किया जाएगा तथा उन्हें प्रति व्याख्यान रू0 500/- मानदेय दिया जायेगा।

 कार्यालय व्यय - इसके अंतर्गत कार्यालय से सम्बन्धित व्यय अनुमन्य होगा।

प्रकाशन, लेखन सामग्री और फार्मो की छपाई - इस मद के अंतर्गत प्रशिक्षार्थियों को कार्यक्रम से सम्बन्धित साहित्य, पेन, रजिस्टर (120 पेज) तथा बैग जिस पर "उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, उ0प्र0"  ढाबा / फास्ट फूड / रेस्टोरेन्ट प्रशिक्षण कार्यक्रम तथा संरक्षक केन्द्र / संस्थान का नाम लिखा होगा, दिया जायेगा पर किया गया व्यय सम्मिलित होगा।

गाड़ियों का अनुरक्षण और पेट्रोल आदि की खरीद - इस मद के अन्तर्गत अतिथि व्याख्याताओं के घर से प्रशिक्षण स्थल तक आने-जाने हेतु किराये के वाहन पर आने वाला व्यय का भुगतान किया जाएगा।

सामग्री और सम्पूर्ति - इस मद के अंतर्गत प्रशिक्षण कार्यक्रम से सम्बन्धित कच्चे माल, रंग-रसायन, ईधन, पैकेजिंग मैटीरियल इत्यादि क्रय करने पर व्यय किया जायेगा।

अन्य व्यय - इस मद के अन्तर्गत कार्यक्रम से सम्बन्धित अन्य आकस्मिक मदों में होने वाले व्यय का भुगतान किया जायेगा। प्रत्येक प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन पर प्रशिक्षणार्थियों द्वारा तैयार किये उत्पादों की एक प्रदर्शनी लगायी जायेगी, जिसका निरीक्षण आमंत्रित मूख्य अतिथि द्वारा किया जायेगा। चयन किये गये अच्छे उत्पादों हेतु प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को आमंत्रित मुख्य अतिथि के हाथों पुरस्कार दिये जायेंगे।

अवमुक्त धनराशि से किसी भी दशा में अधिक व्यय न किया जाय तथा समस्त व्यय सम्बन्धित शासनादेश / संगत नियमों / दिशा निर्देश में उल्लिखित शर्तो / प्रतिबन्धों के अधीन किया जाए तथा व्यय में मितव्ययता बरती जाये व व्यय में किसी प्रकार की अनियमितता के लिए आहरण एवं वितरण अधिकारी व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे।

स्वीकृत धनराशि इस शर्त के अधीन है कि निर्धारित प्रयोजन पर धनराशि का उपयोग निश्चित करके व्यय विवरण एवं ऑडिट स्टेटमेंट ऑफ एकाउण्ट सहित यथा समय शासन को भी प्रस्तुत किया जायेगा तथा निदेशक, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, उत्तर प्रदेश, लखनऊ से सम्बन्धित बहीखाते व लेखे भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक तथा उनके द्वारा प्राधिकृत अधिकारियों के अवलोकनार्थ / परीक्षाणार्थ उपलब्ध रहेंगे।

योजनान्तर्गत निम्न में से न्यूनतम दो प्रशिक्षण प्रति कार्यक्रम सम्पादित किये जायेंगे। प्रतिदिन न्यनूतम 03 घंटे प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किया जायेगा जिसमें से न्यूनतम 1:30 घंटे सैद्धान्तिक एवं 1:30 घंटे प्रयोगात्मक प्रशिक्षण सम्मिलित होगा।

1. सूप व जूस आधारित प्रशिक्षण

इसके अन्तर्गत विभिन्न प्रकार के सूप जैसे कि कैरेट सूप, क्रीम ऑफ टोमैटो सूप / क्रीम ऑफ स्पिनैच सूप / क्रीम ऑफ लेन्टिल सूप / स्कॉच ब्रॉथ / जिंजर सूप / कार्न सूप आदि उत्पादों पर सम्पूर्ण रोजगारपरक प्रशिक्षण इच्छुक लाभार्थियों को प्रदान किया जायेगा।

सैद्धान्तिक

पाक कला का उद्देश्य एवं विधियाँ, कच्चे माल की सम्पूर्ण जानकारी, सूप व उनके प्रकार (वर्गीकरण), सर्विस (परोसने) की जानकारी, हाईजीन एवं सेनिटेशन (फूड सेफ्टी), समस्त प्रकार के फल - सब्जी आदि आधारित पेय उत्पाद।

प्रयोगात्मक

लगभग 15 सूप - क्रीम ऑफ टोमैटो, मिक्स वेजिटेबल, चिकन व इन्टरनेशनल सूप्स, समस्त प्रकार के फल सब्जी आदि आधारित पेय उत्पाद।

2. स्नैक्स आधारित प्रशिक्षण

इसके अन्तर्गत विभिन्न प्रकार के स्नैक्स यथा वेज कबाब, मलाई चौप्स, स्टफ्ड पनीर पकौड़े, वेजिटेबल कटलेट, उत्पम-चटनी / उपमा, स्पाइसी मैक्रोनी, वेजिटेबल बर्गर / मटन बर्गर, पिज्जा, पाव भाजी, हरा धनिया का रोल, सैण्डविच, ढोकला, इडली ढोसा, सांभर, वेज - मंचूरियन, मोमोज तथा अखिल भारतीय व्यंजनों आदि उत्पादों पर सम्पूर्ण रोजगारपक प्रशिक्षण इच्छुक लाभार्थियों को प्रदान किया जायेगा।

सैद्धान्तिक

पाक कला का उद्देश्य एवं विधियाँ, कच्चे माल की सम्पूर्ण जानकारी, बेकिंग के सिद्धान्त, केक, ब्रेड एवं बिस्कुट इत्यादि बनाने की विधियाँ, हाईजीन एवं सेनिटेशन (फूड सेफ्टी)

प्रयोगातम्क विभिन्न प्रकार के बिस्कुट एवं कुकीज, कट्लेट्स, कबाब, पिज्जा, दालमोठ,

3. चायनीच आधारित प्रशिक्षण इसके अन्तर्गत विभिन्न प्रकार के डिसेज तथा चाउमीन, चिली पनीर / चिली पोटैटो, चायनीज फ्राइड राइस, वेजिटेबल / पनीर मनचूरियन, चायनीज चिली चिकन, आदि उत्पादों पर सम्पूर्ण रोजगारपरक प्रशिक्षण इच्छुक लाभार्थियों को प्रदान किया जायेगा।

सैद्धान्तिक चायनीज पाक कला का सिद्धान्त, हाईजीन एवं सेनिटेशन (फूड सेफ्टी)।

प्रयोगात्मक सूप, नूडल्स, शंघाई, मंचूरियन, फ्राइड राइस, चिली चिकन।

4. कॉन्टिनेंटल आधारित प्रशिक्षण (ग्रामीण क्षेत्रों हेतु ढाबा प्रशिक्षण) इसके अन्तर्गत मैक्रोनी ऑ-ग्रेतिन / वेजिटेबल ऑन्ग्रेतिन, वॉल्ड्रॉफ सैलेड / कोल स्लॉ, स्कॉच एग्स / शेफड्स पाई, फिश-एन-चिप्स / फिश-अ-ला एंग्लेज, स्पिनैच सूफले / पिज्जा स्कैलप्ड पोटैटो / क्रीम्ड पोटैटो, बेक्ड बटर चिकन आदि उत्पादों पर सम्पूर्ण रोजगार प्रशिक्षण इच्छुक लाभार्थियों को प्रदान किया जायेगा।

सैद्धांतिक (क)- शहरी क्षेत्र हेतु कान्टिनेन्टल Cusine के सिद्धान्त, हाईजीन एवं सेनिटेशन (फूड सेफ्टी)।

प्रयोगात्मक वेजिटेबल ऑग्रेतिन, कोल्सला, फिश - एन - चिप्स।

सैद्धांतिक (ख) - ग्रामीण क्षेत्र हेतु विभिन्न प्रकार के पराछा / क्षेत्र विशेष का व्यंजन

प्रयोगात्मक बाटी - चोखा, गट्टे की सब्जी, सेब टमाटर की सब्जी।

5. पुडिंग / डैजर्ट आधारित प्रशिक्षण इसके अन्तर्गत ब्रेड बटर पुडिंग, बेक्ड कोकोनेट पुडिंग, बेक्ड चॉकलेट पुडिंग, फ्रूट ट्राइफल, पाइन एपल सूफले, एलबर्ट पुडिंग / जिंजर पुडिंग, मिल्क केक, कला कन्द, रसगुल्ला, गुलाब जामुन आदि उत्पादों पर सम्पूर्ण रोजगारपकर प्रशिक्षण इच्छुक लाभार्थियों को प्रदान किया जायेगा।

सैद्धान्तिक पुडिंग / डेजर्ट बनाने की सैद्धांतिक जानकारी, बेकरी के सिद्धांत, हाईजीन एवं सेनिटेशन (फूड सेफ्टी)।

प्रयोगात्क ब्रेड बटर पुडिंग, फ्रूट पुडिंग, जिंजर पुडिंग, सल्बर्ट पुडिंग, सूफले, खीर विभिन्न प्रकार की।

6. बेकरी आधारित प्रशिक्षण इसके अन्तर्गत सादा बन्द, फ्रूट बन्द, पैटीज, पीजा बेस, बर्गर बन्द, टोस्ट, मीठा टोस्ट, काजू बिस्कुट, नॉन खटाई, कोकोनट कुकीज आदि उत्पादों पर सम्पूर्ण रोजगारपरक प्रशिक्षण इच्छुक लाभार्थियों को प्रदान किया जायेगा।

सैद्धान्तिक बेकरी की सिद्धांत केक, बिस्कुट तथा ब्रेड निर्माण का विधि, बेकरी के टर्म, पेस्ट्री के सिद्धांत, ब्रेड, केक, बिस्कुट में कमियां एवं उनका निवारण।

प्रयोगात्मक विभिन्न प्रकार के बिस्कुट, कुकीज, विभिन्न प्रकार की पेटीज, पेस्ट्री, विभिन्न प्रकार के केक, विभिन्न प्रकार के बन्स।

(सैद्धान्तिक)

  • पाक् कला का उद्देश्य, कच्चे माल की जानकारी, मीनू प्लानिंग एण्ड कास्टिंग, मूल सॉस, ग्रेवी व सूप।
  • बेकरी का सिद्धांत, केक व बिस्कुट तथा ब्रेड निर्माण की विधि, हाईजीन एवं सेनिटेशन (फूड सेफ्टी)।

(प्रयोगात्मक)

  • ग्रेवी एवं सॉस   - 2+2
  • बर्गर / सैण्डविच -  5
  • स्प्रिंग रोल   -  2
  • फ्रैंकीज  -  2
  • विभिन्न प्रकार के मोमो -2