अधिकार पत्र (आलू )

 अधिकार पत्र (आलू)

शासन द्वारा समय-समय पर जारी आदेशों एवं उत्तर प्रदेश कोल्ड स्टोरेज विनियमन अधिनियम 1976 के अन्तर्गत भण्डारणकर्ताओं को शीतगृहों में भण्डारित आलू के सम्बन्ध में निम्नलिखित अधिकार है :-

  • शीतगृह में भण्डारण हेतु आने वाले आलू के लिए पूर्व में निर्धारित बुकिंग व्यवस्था लागू रहेगी तथा भण्डारणकर्ता निर्धारित आरक्षण शुल्क देकर शीतगृह में स्थान सुरक्षित करा सकता है। भण्डारणकर्ता को शीतगृह स्वामी द्वारा जमा किये गये माल एवं जमा किये गये आरक्षण शुल्क की रसीद/पर्चा पर अंकित करना होगा। जमा किये गये आरक्षण शुल्क को माल की निकासी के समय कुल भण्डारण प्रभार में से कम कर दिया जायेगा।
  • भण्डाराणकर्ता भण्डारण प्रभार के अतिरिक्त शीतगृह परिसर के शेड में माल उतारने के बाद अन्य कोई चार्ज नही देंगे।
  • भण्डारणकर्ता अपने माल की तौलाई कम से कम 10 प्रतिशत रखते समय तथा वापस लेने के समय करा सकते है एवं शीतगृह में अपने माल की समय-समय पर चेकिंग/निरीक्षण भी कर सकते है।
  • जिन किसानों द्वारा शीतगृह मालिकों से अग्रिम के रूप में भण्डारित माल के सापेक्ष ऋण लिया जाता है उनसे बैंक दर से 1/2% से अधिक अथवा 15% (इनमें से जो कम हो) ब्याज के रूप में चार्ज किया जायेगा। यदि कोई शीतगृह स्वामी इससे अधिक ब्याज लेता है तो उसके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी।
  • भण्डारणकर्ता भण्डारण प्रभार एवं भण्डारण रसीद देकर अपने द्वारा जमा कराये गये माल का परिदान (वापसी) ले सकता है। भण्डारणकर्ता समय-समय पर आंशिक रूप में आवश्यक किराया देकर परिदान ले सकता है, जिसके लिए प्रत्येक वापसी की रसीद पर पृष्ठांकन किया जायेगा।
  • प्रत्येक शीतगृह में एक शिकायत पुस्तिका रखी जायेगी, जिसमें भण्डराणकर्ता अपने सुझाव/शिकायतें दर्ज कर सकेंगे।
  

प्रत्येक शीतगृह स्वामी का यह कर्तव्य होगा कि वह भण्डारणकर्ताओं के उपरोक्त अधिकारों के अनुसार कार्यवाही सुनिश्चित करें। यदि कोई शीतगृह स्वामी भण्डारणकर्ताओं को इन अधिकारों से वंचित करता है, तो इसके विरूद्ध नियमानुसार कठोर कार्यवाही की जायेगी।

  

भण्डारणकर्ता अपनी शिकायत निदेशक, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, उत्तर प्रदेश, लखनऊ को दूरभाष संख्या 0522-280277 पर दर्ज करा सकेंगे।

ह0/-
आर0के0 मित्तल

सचिव
उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग,
उ0प्र0 शासन